शेरो की दोस्ती शेरो के साथ जानिए कैसे

आप यहाँ पर हर रोज कुछ नया सीखोगे

शेरो की दोस्ती शेरो के साथ जानिए कैसे

2 comments :
शेरो की दोस्ती शेरो के साथ 
motivational thought in hindi-motivational thought in hindi for students
motivational thought in hindi


एक बार एक शेर और शेरनी एक गुफा में रहते थे उन्होंने उस गुफा में एक  बच्चे को जन्म दिया  !!  तीनो आराम से गुफा में रहते थे अचानक शेर का बच्चा जंगल में घूमने जाता है लेकिन शेर और शेरनी के काफी इंतजार करने तक भी शेर का बच्चा घर वापिस नहीं आया  और पता चला की वह शेर का बच्चा जंगल में खो गया और भेड़ो में मिल गया !!!
आप यहाँ से यह भी पढना ना भूले 
1.लक्ष्य पाने के लिए खुद को प्रोत्साहित कैसे करे 
2.जानिए हमारा दिमाग कैसे काम करता है 
3.सफलता के लिए पागलपन बहुत जरुरी है 
4.अकल बादाम खाने से नहीं ठोकर खाने से आती है 
5.आखिर सफलता का रहस्य क्या है  
6.मेरी जिन्दगी में लक्ष्य क्यों जरुरी है 
7.अपने कोशल की पहचान कैसे करे 
वह शेर का बच्चा भेड़ो के झुण्ड में  ही खाना खाता भेड़ो के झुण्ड में ही रहता भेड़ो के झुण्ड में ही सोता और भेड़ो के झुण्ड में ही पानी पीता था !!!
शेर का बच्चा सभी भेड़ो को अपना परिवार समजने लगा और आराम से रहने लगा 
motivational thought in hindi-motivational thought in hindi for students
motivational thought in hindi

लेकिन एक दिन ऐसा आया की उसी जंगल में एक शेर ने आक्रमण कर दिया जिससे जंगल में रहने वाले सभी जानवर भयबीत हो गये 
motivational thought in hindi-motivational thought in hindi for students
motivational thought in hindi


और इधर उधर भागने लगे लेकिन शेर ने गोर से देखा की एक बच्चा नहीं भगा वह अपनी जगह पर खड़ा रहा कुछ देर बाद शेर वहा पर पंहुचा
शेर उसके पास जाकर बोला पांच साल पहले मैंने अपने बच्चे को खो दिया था तुम मेरे ही बच्चे हो और मेरे साथ चलो
बच्चा बोला नहीं में तो भेड़ हु तुम्हारे साथ कैसे चलू  इसी तरह शेर और वह बच्चा एक दुसरे के साथ जिद्द करने लगे तभी शेर बोला अगर इसी बात की पहचान करनी है तो हम पानी के पास चलते है  बच्चे ने हा किया और दोनों पानी के पास चले गये
पानी के पास जाकर दोनों अपनी अपनी परछाई देखने लगे
motivational thought in hindi-motivational thought in hindi for students
motivational thought in hindi

परछाई देखने के बाद बच्चा बोला हा में लगता तो तेरे जैसा ही हु लेकिन परिवार तो मेरा भेड़ ही है
शेर बोला इसका पता लगाने के लिए आपको तेज आवाज में दहाड़ना होगा शेर की बात सुनकर बच्चा जोर से दहाडा हुआ यह की बच्चे की दहाड़ सुनकर सारी भेड़ वहा से भाग गयी और बच्चे को यकीन हो गया की वह भेड़ की नहीं सिंह की ओलाद है और शेर की दोस्ती हमेसा शेर के साथ होती है और बच्चा शेर के साथ अपने खोये हुए घर पर चलें जाते है
आप यहाँ से यह भी पढना ना भूले 
1.15 ways to make positive thinking 
2.15 good habit in student 
3.the best 5 good habit of student 
4.10 qualities of a good student 
5.100 motivation status in hindi with image 
6.power of system 
7.words have power 
8.think out side of the box 
9.abcd वर्णमाला के हर एक अक्षर में छुपी है असली सफलता 
10.personality को develop कैसे करे 
11.management सीखने का आसान तरीका 
12.शेरो की दोस्ती शेरो के साथ जानिए कैसे 
13.जो चाहोगे वही पाओगे जानिए कैसे 
14.मोहम्मद रफ़ी सफलता की कहानी 
15.आपकी माँ आपसे क्या उम्मीद करती है जानिए 
16.जीवन भी एक गणित है इसे सुलजा सकते है 
17.कोई भी काम खानदानी नहीं होता अपने आप चुनना पड़ता है जानिए कैसे 
18.अपने काम को किसी दुसरे के काम से बड़ा समजने के नुकसान 
MORAL :-  दोस्तों अगर आप शेरो के जैसा काम करते हो तो आपको शेरो की ही जरूरत पड़ेगी और शेरो की दोस्ती हमेसा शेरो के साथ ही होती हैं तथा भेड़ो की दोस्ती भेड़ो के साथ होती है 

2 comments :